Who Started English Education in India | भारत में अंग्रेजी शिक्षा का जनक किसे माना जाता है?

Who Started English Education in India | भारत में अंग्रेजी शिक्षा का जनक किसे माना जाता है?

who started english education in india | नमस्कार दोस्तों आज मै इस आर्टिकल के जरिये आप लोगो से Bharat Mein Angreji Shiksha ka Janak Kise Mana Jata Hai | भारत में अंग्रेजी शिक्षा का जनक किसे माना जाता है को शेयर करने जा रहा हू।

Bharat Mein Angreji Shiksha ka Janak Kise Mana Jata Hai | भारत में अंग्रेजी शिक्षा का जनक

भारत में अंग्रेजी शिक्षा का जनक किसे माना जाता है?

ब्रिटिश अधीनता से पूर्व भारत की शिक्षा व्यवस्था लंबे समय से गुरु-शिष्य परंपरा पर आधारित थी। आधुनिक विद्यालयों के विपरीत उस समय छोटी-छोटी पाठशालाएँ होती थीं जहाँ स्थानीय शिक्षक या गुरु द्वारा बच्चों को संस्कृत, व्याकरण, प्रायोगिक गणित, महाजनी खाता आदि के बारे में पढ़ाया जाता था।

अंग्रेजी शिक्षा को लागू करने के पीछे मैकाले का उद्देश्य भारत में अंग्रेजी भाषा का वर्चस्व कायम करना
ताकि लोग हिंदी के बजाये अंग्रेजी को महत्व दे तथा वें भारत में अपना शासन बनाये रखे
उन्होंने सरकारी काम काज के लिए अंग्रेजी को चुना तथा नौकरियों में हिंदी के बजाये अंग्रेजी भाषा को महत्व दिया

सन 1835 में “लार्ड मैकाले” द्वारा लार्ड विलियम बैंटिंग के प्रारुप अनुसार अंग्रेजी शिक्षा का भारत में आरम्भ किया गया 

भारत में अंग्रेजी शिक्षा का जनक “लार्ड मैकाले” को माना जाता है.

 

निष्कर्ष 

दोस्तों अगर आपको मेरे द्वारा लिखा गया यह लेख Bharat Mein Angreji Shiksha ka Janak Kise Mana Jata Hai | भारत में अंग्रेजी शिक्षा का जनक किसे माना जाता है  पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों व रिश्तेदारों के साथ शेयर जरुर करे। हमे कमेन्ट करके जरुर बताये की आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे हमे नए-नए और ज्ञान भरे लेख लिखने के लिए प्रोत्साहन मिले। इसी तरह की जानकारी भरे लेख की सूचना सबसे पहले पाने के लिए हमे सब्सक्राइब करे। आपके कीमती समय के लिए धन्यवाद 

जय हिन्द जय भारत 

अन्य पढने योग्य लेख